नये नये अविष्कार कर देश का मान बढ़ाएगी अंजली

12वीं की टॉपर बनना चाहती है इंजीनियर, कभी क्लास बंक नहीं किया

रोज कॉलेज जाना, हर क्लास करना और कक्षा में पढ़ाए गए विषयों को घर पर लिखकर अच्छी तरह से दोहराना। सफलता के इन्हीं तीन मूल मंत्रों के बल पर बृज बिहारी सहाय इंटर कॉलेज शिवकुटी की छात्रा अंजलि वर्मा ने रविवार को यूपी बोर्ड हाईस्कूल की परीक्षा में यूपी टॉप किया। शिवकुटी में बहन के साथ किराए पर रहकर बिना कोचिंग किए किसान की इस बेटी ने अपनी मेधा का परचम पूरे प्रदेश में लहराया। अंजलि का कहना है कि आने वाले समय में वह इंजीनियर बनकर नए-नए आविष्कार करेंगी।

अंबेडकर नगर जिले के इयाकी सूबेदार का पूरा गांव निवासी किसान आशाराम वर्मा की बेटी अंजलि ने से बातचीत में अंजलि ने घर से स्कूल तक के माहौल और पढ़ाई की अपनी रणनीति तक के अनुभवों को साझा किया। पढ़ाई के लिए ही माता-पिता ने गांव से दूर इलाहाबाद भेज दिया। इविवि से स्नातक कर रही बड़ी बहन दीक्षा के साथ सलोरी में किराये के कमरे में रहकर पढ़ाई करने वाली अंजलि इस कामयाबी का श्रेय माता, पिता , बहन, भाई और अपने शिक्षकों को देती हैं। गणित उनके लिए सबसे पसंदीदा और दिलचस्प विषय है। उन्होंने बताया कि स्कूल की पढ़ाई ही उनके काम आई।माता-पिता जिस भरोसे के साथ पेट काटकर पढ़ाई के लिए उसे प्रोत्साहित करते रहे, उस भरोसे को हमेशा जीतने की चिंता रही। रोज चार बजे उठना और छह से सात घंटे पढ़ाई करना उसका नियम था। कॉलेज में कोई भी कक्षा छोड़ती नहीं थी। कक्षा में पढ़ाए जाने वाले विषयों के नोट बनाकर घर पर नियमित दोहराती रही। उनका कहना है कि कोई भी छात्र-छात्रा अगर नियमित रूप से क्लास करें और कक्षा में पढ़ाए जाने वाले विषयों का रिवीजन करते रहें तो सफलता जरूर हासिल होगी।

रविवार की दोपहर स्कूल की प्रिंसिपल रजनी शर्मा ने जब उसे यूपी में टॉप करने की जानकारी दी, तो उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। कुछ देर में ही अंजलि को बधाई देने वाले शिक्षिक-शिक्षिकाओं, परिचितों और छात्र-छात्राओं का तांता लग गया। गेंदा-गुलाब की मालाओं से गला लद गया। स्कूल परिसर में प्रबंधक रणजीत सिंह बैंडबाजा बजवाने लगे। कॉलेज में उत्सव का माहौल बन गया।

खबर से जुड़ी शिकायत और सुझाव के लिए यहाँ क्लिक (CLICK) करें

Leave a Reply

%d bloggers like this: