भदोही- संपूर्ण समाधान दिवस से फिर निराश लौटे फरियादी

जिस हिसाब से शिकायतें आ रही हैं, उसके अनुसार निस्तारण नहीं हो पा रहा है

ज्ञानपुर। पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए शुरू की गई शासन की महत्वाकांक्षी पहल संपूर्ण समाधान दिवस में जिस हिसाब से शिकायतें आ रही हैं, उसके अनुसार निस्तारण नहीं हो पा रहा है। मंगलवार को जिले की तीनों तहसीलों में कुल 187 मामले पटल पर आएी, जिनमें से केवल 12 मामलों का मौके पर निस्तारण किया जा सका। औराई में एक भी मामले का निस्तारण नहीं किया हुआ।

जिलाधिकारी राजेंद्र प्रसाद ने भदोही तहसील में सुनवाई की। उन्होंने अधिकारियों को शासन की मंशा का पाठ पढ़ाया और कहा कि हर संभव प्रयास हों कि मामले दोबारा समाधान दिवस में न आएं। अधिकारियों को उन्हें समय पर निस्तारित करना चाहिए। इससे समय भी बर्बाद होता है और मामलों का निस्तारण बाधित होता है। उन्होंने ऐसे कई मामलों में फरियादियों से भी कहा कि संबंधित अधिकारियों से अपने मामलों की जानकारी लेने के बाद ही दोबारा प्रार्थना पत्र दें। समाधान दिवस पर डीएम ने कुल 85 मामलों की सुनवाई की। इस दौरान कुल सात मामलों का मौके पर निपटारा कर दिया। उन्होंने फरियादियों से कहा कि एक मामले को बार बार लेकर न आएं। उधर विभागीय अधिकारियों के पेच कसे। कहा कि शासन की मंशा है कि संपूर्ण समाधान दिवस पर लोगों को समाधान मिलना चाहिए। इसलिए मामलों को गंभीरता से लेकर उनका निस्तारण कराएं। किसी भी दशा में लापरवाही सामने आने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। इस मौके पर नगर निकायों, स्वास्थ्य, लोक निर्माण, विद्युत विभाग समेत विभागीय अधिकारियों मौजूद थे। ज्ञानपुर तहसील में उप जिलाधिकारी आशीष कुमार ने जनसमस्याएं सुनीं। इस दौरान 60 मामले आए, जिनमें से पांच का मौके पर ही निस्तारण कर दिया गया। इसी तरह औराई तहसील में कुल 42 मामले आए, लेकिन एक भी मामले का निस्तारण मौके पर नहीं किया जा सका।

खबर से जुड़ी शिकायत और सुझाव के लिए यहाँ क्लिक (CLICK) करें

Leave a Reply

%d bloggers like this: