भाईचारे की मस्जिद को ‘अमन’ नाम दें, लाहौर की बच्ची ने पंजाब के नाम लिखा खत

इससे पहले भी अकीदत कई मुद्दों पर दुनिया भर के नेताओं को खत लिख चुकी हैं

पंजाब के मूम गांव में हिंदुओं की ओर से दी गई जमीन और सिखों के आर्थिक सहयोग से गांव के गरीब मुसलमानों के लिए एक मस्जिद बनाई गई है।

इस खबर को पढ़कर पाकिस्तान की सातवीं कक्षा की एक छात्रा अकीदत नवीद ने गांव वालों के नाम एक भावनात्मक खत लिखा है, जिसमें उसने कहा कि आप गांव वाले भाईचारे की मिसाल हैं। मेरी सलाह है कि आप अपनी मस्जिद का नाम अमन की मस्जिद रखना। इससे पहले भी अकीदत कई मुद्दों पर दुनिया भर के नेताओं को खत लिख चुकी हैं। अकीदत ने गभरत राम, मिस्त्री नाजिम राजा और गांव वालों के नाम लिखे पत्र में लिखा है, मैंने बीबीसी पर आपके गांव की कहानी पढ़ी। आपके गांव के एक-दूसरे के प्यार और भाईचारे में मुझे प्रेरित किया। मैं खुश हूं कि हमारे पड़ोसी देश में आप लोगों ने एक-दूसरे की मदद करने और देखभाल करने का उदाहरण पेश किया है। जबकि आप अलग-अलग धर्म के हैं। आपने साबित कर दिया है कि हिंदू, सिख और मुसलमान भाई-भाई हैं। सभी साथ प्यार से रह सकते हैं। मैं आपको सलाह दूंगी कि आप अपनी मस्जिद का नाम अमन की मस्जिद रखना। बच्चियों की पढ़ाई के लिए एकजुट रहने को कहाअकीदत ने गांव वालों से अपील की है कि वे भविष्य में बच्चियों की पढ़ाई के लिए भी एकजुट रहें। भारत के असली हीरो आप हैं। मेरे खत को अपनी चौपाल पर पढ़ें ताकि आप अपने भाईचारे और एकता के लिए गर्व महसूस कर सकें। 

खबर से जुड़ी शिकायत और सुझाव के लिए यहाँ क्लिक (CLICK) करें

Leave a Reply

%d bloggers like this: