सारे नियम ताक पर, धड़ाम हुआ ट्रैफिक प्लान

जाम से जूझा शहर, डीएम ने कराया था ट्रैफिक प्लान तैयार

जौनपुर। जाम से राहत मिलती नजर नहीं आ रही है। प्रशासन का बनाया ट्रैफिक प्लान ढीले क्रियान्वयन के चलते बेमानी साबित हुआ है। बुधवार को शहर जाम की चपेट में रहा। ट्रैफिक पुलिस जाम खुलवाने में जूझती रही। उधर जाम में फंसकर लोग परेशान रहे। कलेक्ट्रेट पर भी जाम लग गया। यूं कहा जाए कि ट्रैफिक प्लान धड़ाम हो गया है और जाम से शहर हर रोज जूझ रहा है। जाम एक समस्या बन चुका है। इससे निजात दिलाने के लिए डीएम ने ट्रैफिक प्लान तैयार कराया था। लेकिन पुलिस की लढिलाई की वजह से पूरा प्लान धड़ाम हो गया है। ओलंदगंज में व्यवस्था सुधरी जरूर है। लेकिन जेपी होटल के सामने पहले के तरह ही लोग सड़कों पर अपनी बाइक और कारें खड़ी कर रहे हैं। वनवे व्यवस्था उतनी कारगर नहीं है। जितनी होनी चाहिए। ट्रैफिक प्लान लागू होने के बाद शहर के कोतवाल और पुलिस अफसर शाम को सड़क पर जरूर दिखे लेकिन जब जाम लगता है तो होमगार्ड के जवानों के अलावा कोई दिखता नहीं है। सबसे बड़ी मुसीबत स्कूलों की छुट्टी होने के बाद होती है। अभिभावक अपने बच्चों को लेकर जाम में फंसे रहते हैं और इस गर्मी में भूख और प्यास से परेशान हो जाते हैं। सुबह में सिपाह से आगे हर रोज जाम लग जाता है। वहीं ट्रैफिक पुलिस खड़ी रहती लेकिन कोई रास्ता अभी तक नहीं निकाला गया है। ट्रैफिक पुलिस की कमी भी एक कारण है। इस कर्मी को अभी तक दूर नहीं किया जा सका है। वैसे यातायात निरीक्षक विजय प्रताप सिंह का कहना है कि सड़क पर वाहन खड़ा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। 200 से अधिक वाहनों का चालान किया गया है। अब क्रेन से उठाकर ऐसे वाहनों को थाने भेजा जाएगा।

खबर से जुड़ी शिकायत और सुझाव के लिए यहाँ क्लिक (CLICK) करें

Leave a Reply

%d bloggers like this: